कोरोना के चलते छत्तीसगढ़ में भिखारियों व निराश्रितों को निशुल्क भोजन


लॉकडाउन के दौरान छत्तीसगढ़ सरकार भिखारियों और निराश्रितों को भोजन देगी। समाज कल्याण विभाग के सचिव आर प्रसन्ना ने मंगलवार को इस संबंध में आदेश जारी किया है।आदेश में सभी संभागायुक्तों, कलेक्टरों, पुलिस अधीक्षकों व समाज कल्याण विभाग के संयुक्त और उप संचालकों को भिखारियों और निराश्रित व्यक्तियों को भोजन उपलब्ध कराने को कहा गया है। इसके लिए विभिन्न सामाजिक व स्वयंसेवी संगठनों की मदद से उन्हें तैयार भोजन दिया जाएगा। डोर-टू-डोर जाकर भोजन उपलब्ध कराया जाए। इस दौरान एक ही स्थान पर पांच लोग एकत्र न हों, इसका भी ध्यान रखने के निर्देश दिए गए हैं।


कोरोनावायरस को लेकर छत्तीसगढ़ में अब खतरे की घंटी बज गई है। यहां संक्रामक बीमारी का दायरा बढ़ रहा है। राज्य में बुधवार को कोविड-19 पॉजिटिव दो नए मरीजों की पहचान हुई है। इसमें से एक रायपुर और दूसरा राजनांदगांव का रहने वाला है। इससे पहले रायपुर में एक युवती वायरस पॉजिटिव पाई गई थी, जिसका इलाज एम्स में चल रहा है। दोनों नए मरीजों को आइसोलेशन में रखा गया है और उन्हें एम्स शिफ्ट करने की तैयारी की जा रही है। जिन क्षेत्रों में नए मरीज पाए गए हैं उस इलाके को सुरक्षा घेरे में लेकर सेनेटाइजेशन का वृहद अभियान चलाया जा रहा है। देश सहित पूरे राज्य में लॉक डाउन लागू है और प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद है।


वहीं दूसरी तरफ रायपुर से एक कोरोना पॉजिटिव युवती की रिपोर्ट आज आई है। उसे एम्स में लाने की तैयारी की जा रही है। युवती विदेश से लौटी थी, रायपुर के नल घर के पास के होने की जानकारी मिली थी। एम्स के डायरेक्टर डॉ नितिन नागरकर ने बताया कि युवती को जल्द ही पूरी सुरक्षा के साथ एम्स में इलाज के लिए लाया जा रहा है।


Popular posts